संदेश

भूत आया

चित्र
                        भूत आया जब रात का समय आता था, और बिल्कुल अंधेरा हो जाता था, तो हम सभी दोस्त बैठकर हॉरर स्टोरी सुनने के शौकीन बन जाते थे। वो सभी कहानियाँ थी जिनके किस्से और डरावने वाक्य बचपन में हमें डरा देते थे। यह कहानी एक छोटे से गाँव के एक पुराने हवेली की है, जिसका नाम बाबूराम हवेली था। इस हवेली की डरावनी कहानी आज भी गाँव के लोगों के बीच गूंथी जाती है। एक दिन, गाँव का एक युवक नामक अर्जुन उस हवेली के पास जा रहा था। वह कहानियों का शौकीन था और सब लोग उसे बाबूराम हवेली की कहानियों से डराने के लिए चिढ़ाते थे। अर्जुन ने तय किया कि वह वहाँ जाकर एक रात बिताएगा और सबको यकीन दिलाएगा कि वो कहानियों से डरने वाला नहीं है। वो रात के समय हवेली की ओर बढ़ता गया और अंधेरे में वह वहाँ पहुंच गया। हवेली का माहौल डरावना था, और सुनसान छायादार कमरों की चीखें सुनाई देने लगीं। अर्जुन ने सोचा कि यह सब सिर्फ कहानियों का हिस्सा हो सकता है, और वह एक नींद का निवास ढूंढ लेगा। वह एक कमरे में चला गया और अपनी बिस्तर पर बैठ गया। लेकिन तब वह सुना कि कुछ अजीब आवाजें आ रही हैं। बर्फ की किरनों के आवाज, क़दमों की थ

पिशाच की दोस्ती

चित्र
                 पिशाच की दोस्ती यह कहानी एक छोटे से गाँव के एक आदमी के बारे में है, जिनका नाम रवि था। रवि एक सामान्य और ईमानदार आदमी था, जो अपने परिवार के साथ एक छोटे से खूबसूरत घर में रहता था। उसका परिवार उसकी पत्नी सुमित्रा और बेटी सिमा से मिलकर बनता था। रवि के गाँव में एक पुराना मकबरा था, जिसके पास एक पुराना बड़ा और डरावना बगीचा था। गाँववाले इसे "पिशाच का बगीचा" कहते थे, क्योंकि कहा जाता था कि इस बगीचे में पिशाच रात के समय बसते हैं। रवि का बीता हुआ जीवन खुशी-खुशी बीत रहा था, लेकिन एक दिन उसकी बेटी सिमा बगीचे के बारे में सुनकर डर गई और रात को सोते समय डर के मारे उनके पास आई। सिमा ने अपने पिता से कहा, "पिताजी, क्या पिशाच वाकई बगीचे में रहते हैं? मुझे डर लगता है।" रवि ने उसकी चिंता दूर करने का प्रयास किया और कहा, "सिमा, ऐसा कुछ नहीं है। वो सब केवल किस्से हैं। हमारे गाँववाले डर का इस्तेमाल करते हैं ताकि बच्चे अपने काम पर लग जाएं और रात को समय पर सो सकें।" लेकिन सिमा का डर कम नहीं हुआ, और वह हर रात बगीचे की ओर देखती रहती थी। एक दिन, वह निर्णय लिया कि वह बगी

एक डायन की हॉरर कहानी

चित्र
 एक डायन की हॉरर कहानी: यह कहानी एक गांव के पास के जंगलों में बसे एक डायन के घर की है। उस घर का माहौल हमेशा से ही खौफनाक था। गांववाले डायन के घर के पास कभी भी जाने से बचते थे। एक दिन, एक बहादुर युवक नामक "रवि" ने डायन के घर की तरफ साहस किया। वह एक पुरानी किताब में पढ़ा था कि डायन के पास एक अद्वितीय खजाना है। रवि डायन के घर के पास पहुँचा और घर के द्वार पर बंदर की अंकुश तलाशते हुए वह अंदर गया। घर के अंदर सब कुछ डरावना और अजीब था। रवि धीरे-धीरे आगे बढ़ता गया और अचानक उसकी आँखों के सामने एक बड़ी झूला पर एक डायन बैठी हुई दिखी। डायन के हाथ में झूला की डोर है। रवि के दिल की धड़कनें तेज हो गईं, लेकिन वह डायन के पास जाने का साहस किया। वह डोर को काट दिया और झूले पर बैठी डायन से वह खजाना मांगने लगा। डायन हंसी और बोली, "तुमने जो साहस किया है वह अद्भुत है। मैं तुम्हारे साहस को सराहती हूँ। तुम्हारी मंग कुछ और है, तुम अब कैसे बचोगे?" रवि थर्राया, लेकिन डायन ने उसे एक छल के साथ छोड़ दिया और कहा, "तुम्हें जब मेरी मदद की आवश्यकता होगी, तो मुझे यह खजाना लौटाना होगा।" रवि घर

कहानी का नाम: "डायन की वापसी"

चित्र
  कहानी का नाम: "डायन की वापसी" एक गाँव में एक सुंदर सी लड़की नामक लावण्या रहती थी। वह गाँव की सबसे प्यारी और समझदार लड़की थी। उसके बावजूद, गाँव के लोग किसी वजह से उसे डायन मानने लगे थे। एक दिन, लावण्या गाँव के आले-बाले जंगल में खेल रही थी। वह एक खोया हुआ सिपाही का बच्चा देखा और उसे अपने साथ लेकर आई। उसकी मासूमियत ने उसके दिल को छू लिया। लावण्या ने बच्चे को अपने गाँव ले जाकर उसकी देखभाल की, जिससे उसकी अच्छी आत्मा को सबको दिखाने का मौका मिला। इसके परिणामस्वरूप, लोग उसे डायन मानने से बाज आए और उसे एक महिला के रूप में पूजने लगे। लावण्या ने यह दिखाया कि दिल की अच्छाई हमें असली स्वरूप की पहचान कराती है, और डायन या भूत केवल किसी की भ्रम की बातें होती हैं। वह गाँव के लोगों को एक सच्ची कहानी सिखाई और डायन की जगह एक महिला के रूप में एक अच्छी आत्मा के रूप में पहचाना गया। इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि विश्वास और दिल की अच्छाई हमें अच्छे और सच्चे इंसान बनाते हैं, और हमें किसी को उसके बाहरी रूप के आधार पर नहीं चर्चा करनी चाहिए

भूतिया हवेली

चित्र
  भूतिया हवेली 1 कहानी शुरू होती है एक पुराने हवेली में, जो जंगलों में छिपा हुआ था। लोग कहते थे कि हवेली में रात के समय अजीब घटनाएँ होती थीं। एक बच्चा अपने दोस्तों के साथ हवेली का दर्दनाक सच जानने का फैसला करता है। रात के समय, वे हवेली में प्रवेश करते हैं और आवाज़ें सुनते हैं, पर किसी को नहीं देखते। थोड़ी देर बाद, उन्हें एक भूतिया सफरगुज़र बच्चे के आवाज़ का पता चलता है। वह बच्चा बताता है कि वहाँ एक अद्भुत पुरानी तस्वीर है जो इस हवेली के रहस्य का कुंजी है। जब वे तस्वीर को ढूंढने के लिए जाते हैं, तो उन्हें हवेली में भूतों के साथ संघर्ष करना पड़ता है। आख़िरकार, वे तस्वीर को ढूंढ लेते हैं और भूतों के आत्मा को शांति मिलती है। भूतिया हवेली 2 कहानी का नाम: "भूतिया हवेली" एक बड़े हवेली में एक बड़ा पुराना गितार पड़ा था। उस हवेली की रात्रि को अजीब आवाज़ें आने लगीं, जैसे कोई गिटार बजा रहा हो। लोग बताते थे कि हवेली में एक भूत रहता है, जिसका आवाज़ सुनाई देता है। एक रोज़ रात्रि को, एक वीरान लड़का हवेली में घुस गया और गिटार पकड़ लिया। वह गिटार बजाने लगा और भूत का आवाज़ छूप गया। सब

प्रेत का साया हॉरर स्टोरी

चित्र
  प्रेत का साया हॉरर स्टोरी यह थी एक डरावनी कहानी, जिसमें प्रेत का साया होता है: कहानी का प्रमुख पात्र रवि था, एक युवक जो एक पुराने हावेली में अकेले रहने के लिए चुना गया था। हावेली का बनावट बड़ा पुराना और डरावना था, लेकिन रवि ने इसे नजरअंदाज किया और अपने जीवन की नई शुरुआत की। कुछ दिनों तक सब ठीक था, लेकिन एक रात रवि ने अजीब सी आवाज सुनी, जैसे कोई रो रहा हो। वह उठा और देखा कि एक अजीब सी प्रेतात्मा उसके सामने खड़ी थी, और उसकी आवाज अपवादपूर्ण थी। प्रेत के साथ बात करते समय, रवि जानता है कि यह प्रेत कोई पुराना आत्मा है, जिसका कोई अपना कारण है। प्रेत कहता है कि वह अपनी भूतिया हालत से मुक्ति पाने के लिए रवि की मदद चाहता है। रवि उसकी मदद करने का निर्णय लेता है, और धीरे-धीरे पुराने रहस्यों का पता लगाता है, जो हावेली में छिपे थे। वह प्रेत को मुक्ति दिलाने के लिए एक पुराना व्रत मनाता है, और अंत में प्रेत की आत्मा शांति पा लेती है। इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि कभी-कभी हमारे पास डर की बजाय अपनी सहायता के रूप में एक अवसर हो सकता है, और हमें दुसरों की मदद करके सहयोग करना चाहिए।

ये एक पिशाच प्रेत हॉरर कहानी है:

चित्र
  ये एक पिशाच प्रेत हॉरर कहानी है: कहानी का नाम: "भूतिया हवेली का राज" कई साल पहले की बात है, एक छोटे से गाँव में एक हवेली खड़ी थी, जिसे सभी गाँववाले डर से दूर रहते थे। हवेली में बड़ी ही अजीब घटनाएँ होती थीं। एक दिन, एक युवक नामक अर्जुन गाँव में आया और हवेली की राह चुनी। रात के समय, अर्जुन ने गहरी आवाज़ें सुनीं और अजीब हलचल महसूस की। वह उत्सुक हो गया और हवेली के अंदर चला गया। जब वह एक कमरे में पहुंचा, तो वहाँ उसने एक पिशाच को देखा। पिशाच ने उसे बंदर बना दिया और उसका शिकार करने की कोशिश की। अर्जुन ने बहुत मेहनत से वो पिशाच को प्रेत बनाने का मंत्र ढूंढ़ा और उसने पिशाच को प्रेत में बदल दिया। हवेली में अब कोई डरावनी आवाज़ नहीं सुनाई दी, और अर्जुन ने गाँववालों को बताया कि वह ने हवेली का राज क्या है। इसके बाद, हवेली वाले खुद बिना डर के वहाँ जाने लगे और गाँव में शांति बनी रही। यह कहानी हमें यह सिखाती है कि हमें डर का सामना करने के लिए हिम्मत रखनी चाहिए और समस्याओं का समाधान ढूंढने के लिए मेहनत करनी चाहिए।

डायन का साया हॉरर स्टोरी

चित्र
                    डायन का साया हॉरर स्टोरी एक गांव में जो अत्यंत अंधकारमय और अकेला है, वहां एक डायन की कहानी है। गांव के लोग कहते हैं कि रात को जब चाँदनी की रात होती है, तो एक सुंदर सी लड़की की आवाज़ सुनाई देती है जो अपनी कमरे के बाहर खड़ी होती है। जब कोई उसके पास जाता है, तो वह उसको अपने साथ ले जाती है और फिर कभी वापस नहीं आती। एक बार, एक धैर्यशील युवक ने डायन की आवाज़ को सुना और उसके पास जा गया। वह डायन के साथ चला गया, लेकिन वापस कभी नहीं आया। उसके बाद से वो गांव के लोगों के लिए गायब हो गया। गांव के लोग इसे डायन की कार्रवाई मानते हैं और उस कमरे को छोड़ दिया है। वहां की रातें अब भी भयानक होती हैं और कोई भी वहां जाने का साहस नहीं करता।                       डायन हॉरर स्टोरी  क समय की बात है, एक छोटे से गाँव में एक रात, एक छोटी सी लड़की अपने माता-पिता के साथ एक बड़े पुराने घर में रुकी। घर की दीवारों पर पुराने तस्वीरें लगी हुई थीं, और वहाँ का माहौल भी डरावना था। रात के बीच, लड़की ने कुछ आवाजें सुनीं - कदमों की आवाज, फिस्फिसाहट, और दरवाज़े के बड़े धीरे से खुलने की आवाज। वह डरकर अप

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुराना महल रियल हॉरर स्टोरी

अनोखा पैलेस

भूत आया